गुलामी का दौर एकदम नहीं आया था भारत में…

गुलामी का दौर एकदम नहीं आया था भारत में…समय के साथ उसकी सीमा बढ़ती गयी जिससे देश को गुलामी जैसी जकड़न से गुजरना पड़ा। भारत में ईस्टइंडिया कंपनी का आगमन हुआ जो भारतवासियों का विश्वास जीतने में सफल रही थी। यही कारण था कि भारत जैसे प्रबुद्ध देश पर ईस्टइंडिया

Read More

राजनीति के परिदृश्य में मुस्लिम युवा

          आज का मुस्लिम समाज जिनमें से खासकर युवा वर्ग अराजक तत्वों से डरा, सहमा और व्यथित दिखाई देता है। और इसका कारण भी है, आज देश में ऐसा माहौल उत्पन्न कर दिया है कि जिसके चलते यह युवा अपना आतीत तक नहीं खोज पाता। इनकी संभावनों को इस कदर

Read More

आखिर कब तक ?

अपनी दुनिया में मगरुरकानों में हैडफोनसुन रहा था मैंगाने,वॉल्युम इतनी कि बाहर की आवाज भी सुनाई पड़ रही थी,अचानक एक चीख सुनाईदी ,हैडफोन निकाल मैं अपने कमरेसे आया बाहर,फिर से चीख चिल्लाहट हुईजो निरन्तरता में बदलगई,नजर अन्दाज करना मुश्किल हो गया,मुझ अकेले के लिए नहींजितने भी थे वंहा मौजूद,सब ऊपर

Read More

राजनीति और मीडिया के बदलते संदर्भ

समझ नहीं आता कि किस मिट्टी से बने हैं लोग। लोग से तातपर्य समझ ही गये होंगे कि मैं किसकी बात कर रहा हूँ, और अगर नहीं समझे होंगे तो फोटो और नाम से समझ गए होंगे।ख़ैर, देश में चारों तरफ तूफान सा है, सेना के 40(कुछ तथ्यों के अनुसार)

Read More