Pulavama kavita लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Pulavama kavita लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 10 अक्तूबर 2019

हैप्पी इंडिपेंडेन्स डे

कपड़े मैले कुचले
पाँव नंगे
चेहरा धूल से सना
और आग-सी चिलचिलाती धूप,
हाथ में प्लास्टिक के
तिरंगों का गुच्छा लिए
शहर की सबसे तंग
रेड लाइट पर,
सस्ती-महंगी सभी गाड़ियों की
शीशें पीटतीं
वो गूंगी लड़की।
नज़र तक न फेरते
कारों वाले,
कभी इन्तजार कर
तो कभी दुत्कारने पर
आगे बढ़ जाते उसके पैर।


रेड लाइट पर टाइम काटने को
कोई कभी पूछ डालता-
''कैसे दिए?''
दाहिने हाथ की पाँचों उँगलियाँ खोलकर
वह बताती-
''दस के दो ''
ये सोचकर कि वो झंडे लेगा
वो रुक जाती
पर लाइट होते ही वो निकल पड़ता।


गाड़ी के साथ कुछ दूर
भागकर पैसे लेने पड़ते
तो कभी दौड़कर पैसा पकड़ाना पड़ता
कई बार तो पैसे भी ना मिल पाते,
हॉर्न बजातीं कारें-बाइकें
बड़ी-बड़ी गाड़ियाँ
बड़ी तेज़ी-से
उसके दाएँ-बाएँ से गुजरतीं,
तो कुछ उसे
गरियाते हुए निकल जाते-
''अरे मरेगी क्या?''
उस बीच से निकलने की
उसकी वो जद्दोजहद
और उसका जीवन से ये
निर्मोह संघर्ष देख
सिर झन्ना जाता
और हृदय सहम जाता,
कभी किनारे पहुँचने से पहले
तो कभी पहुँचते ही
रेड लाइट हो जाती,
और वह पुनः लौट पड़ती
शीशें पीटने।
एक बड़ी-सी कार आकर रुकी
शीशा सरका
"फ्लैग्स लेना है बेटा?''
चलो दीदी को हैप्पी इंडिपेंडेंस डे बोल दो-
''हैप्पी इंडिपेंडेंस डे दी ''


अपनी ही उम्र की वो लड़की
और उसकी वो बात,
उसका वो दूध-सा सफेद चेहरा
उसके रंग-बिरंगे नए-नए
सुंदर कपड़े,
उसको लगातार दुलारती
उसकी वो 'मॉम ',
और न जाने क्या-क्या,
एक दम से सब
उसकी नजरों के सामने घूम जातीं,
जिसकी माँ ने तीन झंडे लिए थे
और वो भी दस में,
उसकी धड़कनें बढ़ने लगतीं
और पसीने की एक धार
उसकी कनपट्टी से निकल पड़ती,
और अचानक हॉर्न की तेज़ आवाज़
उसे एक झटके में जगा देती
दिन के इस भयानक स्वप्न से।


आँखें मींचते
और पसीने से तर
सड़क के डिवाइडर से उठकर
और इधर-उधर नजरें दौड़ा,
वह पुनः निकल पड़ती
आज़ादी मनाने।


भूपेंद्र


( शोधार्थी,(पीएच-डी) दिल्ली विश्वविद्यालय)

शुक्रवार, 4 अक्तूबर 2019

पुलवामा

क्या होगा भयानक दृश्य वहां
वीरों ने गवाये प्राण जहां
कतरा कतरा था खून गिरा
थम गया समय ही पल में वहां


चल रहे लोग चलतीं गाड़ी
हुआ रक्त तेज रुक गयीं नाड़ी
झकझोर दिया इस हमले ने
देखें रस्ता घर माँ ठाढ़ी


थी उम्र अभी बचपने की
कुरबानी दे दी सपनों की
वो गया देश रक्षा हित में
आ बाहों में लेटा अपनों की


एक पिता की लाठी टूट गयी
एक माँ ठाढ़ी जो रुठ गयी
बहना की डोली उठने से पहले
उसकी जिंदगी थी छूट गयी


पत्नी अब तक है सदमे में
बच्चे बिलखें सब अपने में
भयभीत कलम मेरी लिखने को
जैसे हुआ है ये सब सपने में


पवन कुमार,
(दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र हैं)